Teachers Day Poems in Hindi - शिक्षक दिवस पर अद्भुत कविताएँ

By
Advertisement
3Week Diet Plan Guide
3Week Diet Plan Guide
3Week Diet Plan Guide

Teacher's Day Poems in Hindi

Is teachers day par bahut sare log teachers day poems in hindi ko search kar rahe hai, un logo ko liye ham ye post likh rahe hai.. es post me apki sabhi searches jaise ki teachers day poems in hindi for teachers, teachers day poems in hindi for kids, teachers day poems in hindi language, teachers day poems in hindi pictures, ki result mil jayengi.

  व यहाँ पर आप पढ़ पाएंगे, टीचर्स डे (शिक्षक दिवस) के ऊपर आधारित ४ अद्भुत कविताएँ.

Teacher's Day Poems in Hindi

Teacher's Day Poem in Hindi #1

आदर्शों की मिसाल बनकर
बाल जीवन संवारता शिक्षक,

नित नए प्रेरक आयाम लेकर
हर पल भव्य बनाता शिक्षक,

संचित ज्ञान का धन हमें देकर
खुशियां खूब मनाता शिक्षक,

पाप व लालच से डरने की
धर्मीय सीख सिखाता शिक्षक,

देश के लिए मर मिटने की
बलिदानी राह दिखाता शिक्षक,

प्रकाशपुंज का आधार बनकर
कर्तव्य अपना निभाता शिक्षक,

प्रेम सरिता की बनकर धारा
नैया पार लगाता शिक्षक।

- तरुणा खुराना

Teacher's Day Poem in Hindi #2

शिक्षक है शिक्षा का सागर,
शिक्षक बांटें ज्ञान बराबर,
शिक्षक मंदिर जैसी पूजा,
माता-पिता का नाम है दूजा,
प्यासे को जैसे मिलता पानी,
शिक्षक है वो ही जिंदगानी,शिक्षक न देखे जात-पात,
शिक्षक न करता पक्ष-पात,
निर्धन हो या हो धनवान,
शिक्षक को सब एक सामान.शिक्षक माझी नाव किनारा,
शिक्षक डूबते को सहारा,
शिक्षक का सदा ही कहना,
श्रम लगन है सच्चा गहना.
कविता: हरिंदर सिंह गोगना

Teacher's Day Poem in Hindi #3

टीचर होती एक परी
सिखाती हमको चीज नई
कभी सुनाती एक कविता
कभी सुनाती एक कहानी
करे कभी जो हम शैतानी
कान पकड़े, याद आए नानी
अच्छे काम पर मिले शाबासी 
टीचर बनाती मुझे आत्मविश्वासी
टीचर होती एक परी
सिखाती हमको चीज नई
‍- मयूरी खंडेलवाल,

मैडम
मैडम मेरी कितनी अच्छी
हम बच्चों जैसी सच्ची
खेल-खेल में हमें पढ़ाती
ढेरों अच्‍छी बात बताती
हम बच्चों जैसी प्यारी मैडम
सबसे अच्छी न्यारी मैडम
- मो.आजम अंसारी, इंदौर

जादूगर सर
सर को कैसे याद पहाड़े?
सर को कैसे याद गणित?
यह सोचती है दीपाली
यही सोचता है सुमित
सर को याद पूरी भूगोल
कैसे पता कि पृथ्वी गोल?
मोटी किताबें वे पढ़ जाते?
हम तो थोड़े में थक जाते
तभी बोला यह गोपाल
जिसके बड़े-बड़े थे बाल
सर भी कभी तो कच्चे थे 
हम जैसे ही बच्चे थे 
पढ़-लिखकर सब हुआ कमाल
यूँ ही सीखे सभी सवाल
सचमुच के जादूगर हैं
इसीलिए तो वो सर हैं 

Teacher's Day Poem in Hindi #4

शिक्षा शिक्षक से मिले , शिक्षक की ही पौर ।
शिक्षक ही वह देव है ,जिस सम कोई न और॥
आर्यावर्त यह देश है ,सुन लो जरा अतीत ।
चलते गुरुकुल थे यहां, यही पुरानी रीति ॥
सुन जनती माता सभी ,पितु करता परितोष ।
गुरू देवे सुज्ञान जब , है मिले तभी संतोष ॥
यहीं अयोध्या भूमि है , जहं प्रगटे थे श्री -राम ।
गुरू विश्वामित्र के साथ,सहे कष्ट तज विश्राम॥
राम लखन मुनि साथ मे, तब विद्या पाई हाल ।
मुनि मख की रक्षा करी ,भये राक्षश कुल के काल॥
यहीं वह व्रज की भूमि है ,जहं जन्मे थे व्रजराज ।
व्रज को देकर बाल सुख ,किये सुरों हित काज ॥
वह भी गुरुकुल में पढे ,की गुरू की मरजाद ।
विप्र सुदामा के साथ मे,गुरु मां से ले परसाद॥
हुये अर्जुन से योद्धा यहीं , जिनके गुरू थे द्रोण |
लक्ष्य भेद सीखा पार्थ ने, व व्यूह भेद हर कोण ||
महापुरुष गुरू कृपा से ,हुए जगत विख्यात |
प्रताप,परशु व भीश्म का ,नहीं पौरुष किसको ज्ञात ||
शिक्षक दिवस शिक्षकों को,सदा रहा प्रेरणाश्रोत |
शिक्षक शिष्य के मध्य नहीं, जाती धर्म व गोत्र ||
शिक्षक दिवस में सब शिक्षक ,करके निज ह्रदय स्वतंत्र |
शिष्यों को दें शुभकामनाएं , व निज उन्नति के मंत्र ||

Teacher's Day Poem in Hindi #5


 Nahin hain shabd kaise karoon dhanyavaad,
Bas chahiye har pal aap sabka aashirvaad,
Hoon jahan aaj mai usme hain bada yogdaan,
Aap sabka jinhone diya mujhe itna gyaan.

 Aapne banaya hai mujhe is yogya,
Ki praapt karoon mai apna lakshya,
Diya hai har samay aapne sahaara ,
Jab bhi laga mujhe ki mai haara.


Par main hoon kitna matlabi,
Yaad kiya na maine aapko kabhi,
Aaj karta hoon dil se aap sab ka sammaan,
Aap sab ko hai mera shat shat pranaam.


HAPPY TEACHER'S DAY!

Teacher's Day Poem in Hindi #6


मैडम मेरी कितनी अच्छी
हम बच्चों जैसी सच्ची
खेल-खेल में हमें पढ़ाती
ढेरों अच्‍छी बात बताती
हम बच्चों जैसी प्यारी मैडम
सबसे अच्छी न्यारी मैडम

Teacher's Day Poem in Hindi #7


सर को याद पूरी भूगोल
कैसे पता कि पृथ्वी गोल?
मोटी किताबें वे पढ़ जाते?
हम तो थोड़े में थक जाते
तभी बोला यह गोपाल
जिसके बड़े-बड़े थे बाल
सर भी कभी तो कच्चे थे
हम जैसे ही बच्चे थे

Teacher's Day Poem in Hindi #8


रोज सुबह मिलते है इनसे, क्या हमको करना है,
ये बतलाते है ।
ले के तस्वीरें इन्सानों की, सही गलत का भेद हमें,
ये बतलाते है ।
कभी ड़ांट तो कभी प्यार से, कितना कुछ हमको,
ये समझाते है ।
है भविष्य देश का जिन में, उनका सबका भविष्य,
ये बनाते है ।
है रगं कई इस जीवन में, रगों की दुनिया से पहचान,
ये करवाते है ।
खो ना जाये भीड़ में कहीं हम, हम को हम से ही,
ये मिलवाते है ।
हार हार के फिर लड़ना ही जीत है सच्ची, ऐसा एहसास,
ये करवाते है ।
कोशिश करते रहना हर पल, जीवन का अर्थ हमें,
ये बतलाते है ।
देते है नेक मज़िल भी हमें, राह भी बेहत्तर हमे,
ये दिखलाते है ।
देते है ज्ञान जीवन का, काम यही सब है इनका,
ये शिक्षक कहलाते है ।


Teachers Day Poems in Hindi #9


Nahin hain shabd kaise karoon dhanyavaad,
Bas chahiye har pal aap sabka aashirvaad,
Hoon jahan aaj mai usme hain bada yogdaan,
Aap sabka jinhone diya mujhe itna gyaan.


Teachers Day Poems in Hindi #10 


 Aapne banaya hai mujhe is yogya,
Ki praapt karoon mai apna lakshya,
Diya hai har samay aapne sahaara ,
Jab bhi laga mujhe ki mai haara.

Tags:

Teacher's Day Poems in Hindi
Teachers Day Poem in Hindi
Teachers Day Hindi Kavita


Upcoming searches:

teachers day poems in hindi
teachers day poems in english
teachers day messages
teachers day poems for kids
teachers day quotes
teachers day speech
teachers day poems in tamil
teachers day poems in urdu